Month: January 2017

वर्ष 2004 में मिले विस्फोटक को नष्ट करने के लिए न्यायलय का इंतज़ार 

Posted on


भंगार के बहाने इराक से आये थे विस्फोटक 

भंगार व्यवसायी सहित चार लोगो हुए थे गिरफ्तार 
नवी मुंबई : 13 वर्ष पहले कलंबोली में भंगार में मिले विस्फोटको की सुरक्षा नवी मुंबई पुलिस के पास है | इन विस्फोटको को नष्ट करने के लिए केन्द्रीय गृह विभाग द्वारा दो बार दौरा किये जाने के बाद अब न्यायलय के आदेश के बाद इसे नष्ट करने की जानकारी सूत्रों से मिली है |

         बतादे की अक्तूबर  2004 में  इराक से उरण के जेएनपीटी बंदरगाह में 25 कंटेनर आये थे | उसमे से 13 कंटेनरों में विस्फोटक पाया गया था | भंगार के नाम पर यह विस्फोटक लाये गए थे | इसमें से 13 कंटेनर उत्तर प्रदेश भेजा गया था जब की एक कंटेनर कलंबोली के लोखंड बाजार में भेज दिया गया था | इसमें से कलंबोली पुलिस ने एक टन जिंदा विस्फोटक और भंगार के विस्फोटक बरामद किया था | जिसमे रोकेट ,हैण्डग्रेन्ड ,आदि का समावेश था | इस मामले में कलंबोली पुलिस ने भंगार मालिक मनोज कुमार वर्मा सहित अन्थोनी स्वामी, मोहम्मद इकबाल कादरी, दीपक अग्रवाल  को गिरफ्तार किया था |वर्ष 2004 से 2005 तक इन विस्फोटको को कलंबोली पुलिस स्टेशन के पास रखा गया था लेकिन एनएसजी टीम द्वारा इन विस्फोटको को देखने के बाद इसे रहिवासी परिसर से दूर रखने को कहा गया | जिसके बाद इसे पनवेल व उरण के बिच एक गाव के पास एक गोदाम में इन विस्फोटको को रखा गया है | इस गोदाम की सुरक्षा अभी नवी मुंबई पुलिस के पास है |
                विस्फोटक की सुरक्षा में लाखो रुपये खर्च 

 इन विस्फोटको की सुरक्षा के लिए अभी तक 60 से 70 लाख रुपये खर्च हो चूका है | एक तरफ नवी मुंबई पुलिस बल की संख्या कम ऊपर से इस विस्फोटक का सुरक्षा करने में नवी मुंबई पुलिस को कई समस्या का सामना करना पड़ रहा है | इसके लिए अब पुलिस को न्यायलय के आदेश का इंतजार है आदेश आते ही इन विस्फोटको को नष्ट कर दिया जाएगा |   इन विस्फोटको को नष्ट करने के लिए 6 लाख रुपये खर्च होने का प्रस्तावित किया गया है | 

Advertisements

ठाणे बेलापुर एमआईडीसी के 3276  कंपनियों का प्रोपर्टी टैक्स बकाया 

Posted on


बकायेदारी कंपनियों से 411 करोड़ 97 लाख 77 हजार दंड वसूल 

सूचना अधिकार में हुआ खुलासा 

 मुंबई : नवी मुंबई के ठाणे बेलापुर एमआईडीसी क्षेत्र के  3 हजार 276 कंपनियों के ऊपर करोडो रुपये बकाया होने की जानकारी नवी मुंबई मनपा ने सूचना अधिकार के अंतर्गत मांगे गए जानकारी में नागमणि पाण्डेय को दिया है | दिसंबर 2016 के बकाया यह टैक्स वसूल करने के लिए नवी मुंबई मनपा के सम्पति विभाग ने विशेष दल बनाकर वसूल किये जाने की जानकारी दिया गया है 

          बतादे की सम्पति धारको द्वारा प्रोपर्टी टैक्स नही भरे जाने पर टैक्स के साथ ही दंड वसूल किया जाता है | सूचना अधिकार अंतर्गत वर्ष 2000 से लेकर वर्ष 2016 तक की ठाणे बेलापुर एमआईडीसी क्षेत्र के  टैक्स नही भरने वालो की जानकारी मांगी गयी थी | इस जानकारी में बताया गया है की उक्त क्षेत्र में 3 हजार 276  कंपनियों का प्रोपर्टी टैक्स बकाया है | इस के साथ ही वर्ष 2000 से लेकर वर्ष 2016 तक बकायादार कंपनियों से 411 करोड़ 97 लाख 77 हजार 638 रुपये दंड वसूल किया गया है विशेष की इन कंपनियों का मूल प्रोपर्टी टैक्स 390 करोड़ 92 लाख 49 हजार ८२४  है | लेकिन इन कंपनियों ने नियमित तौर पर सम्पति टैक्स नही भरे जाने के कारण दंड के साथ 802 करोड़ 90 लाख 27 हजार 66 रुपये वसूल किया गया है | इन कंपनियों को समय समय पर प्रोपर्टी टैक्स भरने हेतु नोटिश भी भेजा गया है | इस के साथ ही कुछ कंपनियों को कार्यवाई भी किये जाने की जानकारी नागमणि पाण्डेय को सूचना अधिकार अंतर्गत नवी मुंबई मनपा ने दिया है ।

तुर्भे विभाग अंतर्गत सर्वाधिक 5541 झोपड़े अपात्र 

Posted on


अपात्र  झोपड़ो में अधिकतर वर्ष 2000 के पहले के झोपड़ो का समावेश 

नागमणि पाण्डेय 

नवी  मुंबई :1 वी सदी के अत्याधुनिक शहर के रूप में पहचाने जाने वाले नवी मुंबई के घरो की कीमत आसमान पर पहुच गया है |युति सरकार द्वारा वर्ष 2000 तक के झोपड़ो को पात्र घोषित कर दिया गया है तो वर्ष २०१५ तक के झोपड़ो को पात्र करने की मांग कुछ राजकीय दलों द्वारा किये जाने के बाद  तो झोपड़ो की कीमत भी लाखो तक पहुच गया है |इन झोपड़ो का पुनर्वसन के लिए झोपू योजना लागू करने की तैयारी किया जा रहा है ऐसे में नवी मुंबई मनपा द्वारा शहर के 22 हजार 716 झोपड़ो को अपात्र घोषित किया है | जिसमे तुर्भे विभाग अंतर्गत सर्वाधिक 5 हजार 541 अपात्र झोपड़ो का समावेश है | विशेष की अपात्र घोषित किये गए झोपड़ो में अधिकतर झोपड़े वर्ष 2000 के पहले के है | 

                     नवी मुंबई मनपा अंतर्गत सिडको ,एमआईडीसी और सरकारी जमीन पर झोपड़ो का विस्तार हुआ है नवी मुंबई मनपा द्वारा वर्ष 2001 में किये गए सर्वे अनुसार शहर में 41 हजार 805 झोपड़े है इसमें से वर्ष 1995 के पहले पात्र घोषित हुए 19089 झोपड़ो का समावेश है तो अपात्र झोपड़ो की संख्या 22 हजार 716 है इसमें सर्वाधिक झोपड़े एमआईडीसी की जमीन पर बसे है | इसके अलावा सिडको और मनपा के भूखंड पर भी झोपड़ो का विस्तार हुआ है | इसमें सर्वाधिक झोपड़ो की संख्या तुर्भे में है | इन झोपड़ो का पुनर्वसन करने के लिए झोपू योजना लागू करने हेतु राज्य सरकार द्वारा कोशिस किया जा रहा है | नवी मुंबई मनपा अंतर्गत तुर्भे विभाग में झोपड़ो का सर्वे  सितंबर 2002 में किया गया था तुर्भे विभाग अंतर्गत हनुमान नगर ,तुर्भे स्टोअर ,आंबेडकर नगर ,इंदिरानगर ,गणपतीपाडा ,गणेश नगर और  सेक्टर 21 ,23 ,24  के  11 हजार 754 झोपड़ो का समावेश है | इन परिसरों के झोपड़ो का  सर्वे के बाद 6 हजार 213 झोपड़ो को पात्र घोषित किया गया है | इन झोपड़ो में सर्वाधिक झोपड़े तुर्भे स्टोर में तो सबसे कम झोपड़े गणपति पाड़ा में होने की जानकारी उपायुक्त तृप्ति सांडभोर ने दिया | 

                             फोटोपास को लेकर नागरिको में नाराजगी 

नवी मुंबई में सबसे बड़ी झोपड़पट्टी क्षेत्र के रूप में तुर्भे को पहचाना जाता है |तुर्भे परिसर में आने वाले तुर्भे स्टोर ,इंदिरा नगर ,हनुमान नगर ,गणपति पाडा ,अंबेडकर नगर,गणेश नगर का समवेश है |  इन परिसरों में झोपड़ो की संख्या  11754 है जिसमे से  5541 झोपड़ो को अपात्र घोषित किया गया है | अपात्र घोषित किये गए अधिकतर झोपड़े वर्ष 2000 के पहले के है |  स्थानीय नगरसेवक सुरेश कुलकर्णी ने बताया की अपात्र घोषित किये गए अधिकतर झोपड़े वर्ष 1995 के पहले के है लेकिन कुछ झोपड़ो का ट्रांसफर किये जाने के कारण वर्ष 2002 में किये गए सर्वे के बाद इन झोपड़ो को अपात्र घोषित किया गया है |जिसको लेकर स्थानीय नागरिको द्वारा नाराजगी व्यक्त किया जा रहा है | नागरिको के पास सभी कागजात है इसके बावजूद सही तरह से सर्वे नही किये जाने का आरोप भी नागरिको को द्वारा किया जा रहा है  इन नागरिको की नाराजगी देखते हुए  इन झोपड़ो की सही तरह से जांच कर इन झोपड़ो को पात्र करने के बाद फोटो पास का वितरण करने की मांग सुरेश कुलकर्णी ने किया है 

                                    नवी मुंबई मनपा के माध्यम से तुर्भे विभाग में सितंबर  2002  में किये गए झोपड़ो का सर्वे सूचि  

विभाग            झोपडपट्टी का नाम            झोपडपट्टी  का भूखंड              कुल   संख्या                 कुल पात्र  झोपड़े              कुल अपात्र  झोपड़े 

तुर्भे                हनुमान नगर                      सरकारी  जमीन                     1939                          1336                                603

तुर्भे           तुर्भे स्टोअर                            सरकारी  जमीन                     5866                             3379                        2487 

तुर्भे          आंबेडकर नगर                         एमआयडीसी                            970                                501                            469

तुर्भे          इंदिरानगर                                एमआयडीसी                            2497                              771                       1726

तुर्भे          गणपती पाडा                            एमआयडीसी                              127                              27                              100

तुर्भे        गणेश नगर                               एमआयडीसी                               216                            110                                106

तुर्भे           सेक्टर २१ ,२३ ,२४                  सिडको                                     139                                 89                             50

                                                                 कुल                                11754                                6213                       5541

    

पालिका आयुक्त की नसीहत की जरुरत नही – हेमंत नागराले 

Posted on


मनपा आयुक्त ने भूमाफियाओ पर मकोका लगाने की थी मांग 

नवी  मुंबई : कोई हमें अपराधिक मामला दर्ज करने की सलाह ना दे नाही उनकी नसीहत की जरुरत है हमें अपना काम करना पूरी तरह से आता है इस तरह से मनपा आयुक्त तुकाराम मुंडे द्वारा मामला दर्ज करने के लिए भेजे गए पत्र के जवाब में पत्रकार परिषद् में तीखी प्रतिक्रिया पुलिस आयुक्त हेमंत नागराले ने दिया | 

              बतादे की नवी मुंबई मनपा आयुक्त तुकाराम मुंडे ने हाल ही में नवी मुंबई पुलिस आयुक्त को पत्र लिखकर भूीमाफियाओ के खिलाफ मकोका अंतर्गत मामला दर्ज करने को कहा था | इस ुंसन्दर्भ में पुलिस आयुक्त हेमंत नागराले से सवाल किये जाने पर नागराले ने कहा की मनपा द्वारा सिर्फ पत्र लिख दिया इसके लिए किसी पर मकोका नही लगा सकते | उसके लिए नियमानुसार ाशिकायत दर्ज िकराये जाने पर हम अगला कदम उठा सकते है | आगे बोलते हुए हेमंत नागराले ने कहा की हमें किसी के मार्गदर्शन की जरुरत नही है अपराधिक मामला किस तरह दर्ज किया जाता है और ुअपराध को किस तरह कंट्रोल करना है इसके लिए हम पूरी तरह से प्रशिक्षित है | पुलिस आयुक्त हेमंत नागराले द्वारा दिए गए इस प्रतिक्रिया के बाद नवी मुंबई मनपा आयुक्त ातुकाराम मुंडे और पुलिस आयुक्त  हेमंत ेनागराले के बिच टकराव बढ़ने की उम्मीद जताई जा रही है | अब देखना यही है की क्या मनपा आयुक्त तुकाराम मुंडे इस पर आगे भूोमाफियाओ के खिलाफ कोई  कदम उठाते है या नही | इस तरह सभी की नजर लगी है |