Month: September 2015

चार्ल्स सोभराज दूसरा को तिलक नगर पुलिस ने किया गिरफ्तार

Posted on


image

आरोपी के खिलाफ शहर भर में ३५० से अधिक मामले दर्ज
१८ मामलों में हुआ है सजा
नागमणि पाण्डेय
मुंबई : अपने आप को कल्याण क्राइम ब्रांच का अधिकारी बताकर  एक व्यक्ति को गिरफ्तार करने आये एक फर्जी पुलिस को रंगे हाथो तिलक नगर पुलिस ने  गिरफ्तार कर लिया है | वंही इस के साथ के फरार दुसरे आरोपी की तलाश पुलिस कर रही है | चार्ल्स सोभराज के दुसरे रूप में पहचाने जाने वाले इस आरोपी के खिलाफ मुंबई सहित आस पास के पुलिस स्टेशनों में ३५० से अधिक गंभीर मामले दर्ज है जिसमे से १८ मामलों में उसे सजा मिले चुका है |
                तिलक नगर पुलिस स्टेशन के वरिष्ट पुलिस निरीक्षक भागवत सोनवाने ने दिए जानकारी अनुसार गिरफ्तार आरोपी का नाम शशिकांत चंद्रकांत कोडवालकर (56) है | मूल रूप से गोवा का रहने वाला शशिकांत ठाणे जिले के मुम्ब्रा  में रहता है | चेंबूर के लोखंडे मार्ग पर फ्लोवर मिल में काम करने वाले शिकायतकर्ता जाकिर हुसैन बाबु अहमद (35 ) के पास 28 सितंबर की रात को आरोपी शशिकांत और उस का सहयोगी कलीम आये | शशिकांत ने अपने आप को कल्याण क्राइम ब्रांच का अधिकारी बताया और कहा की तुमने कलीम से चोरी के कपडे ख़रीदा है | इस के लिए उसे गिरफ्तार करने आया है | इस के बाद शशिकांत ने जाकिर को पकड़कर गाडी में बिठाकर कुछ दूर ले गए | रास्ते में कलीम ने जाकिर से कहा की कुछ पैसे देकर मामले को हल कर लो नही तो तुम्हे गिरफ्तार कर लेंगे | जिसके बाद जाकिर ने कहा की अभी उसके पास पैसा नही है लेकिन उसे छोड़ दो तो सुबह पैसा दे देगा | जिसके बाद उसे छोड़ दिए | और अगले दिन वापस सुबह में जाकिर के पास आये | तब जाकिर ने पैसा कम करने को कहा लेकिन वह अपने जिद्द पर टिके रहे है | इतने में वंहा से तिलक नगर पुलिस स्टेशन का एटीसी टीम वंहा से पेट्रोलिंग कर जा रही थी | तभी जाकिर के मालिक निकालाजे ने एटीसी टीम को देखा और रुकने के लिए इशारा किया | जिसके बाद शशिकांत और कलीम पुलिस को देख भागने लगे | | जिसके बाद पुलिस ने पीछा कर शाशिकनत को गिरफ्तार कर लिया | जब की कलीम पुलिस को चकमा देकर भाग गया | देवनार विभाग के सहायक पुलिस निरीक्षक प्रकाश निलेवाड ने बताया की आरोपी शशिकांत मूल रूप से गोवा का रहाने वाला है लेकिन वह कल्याण फाटा स्थित मुम्ब्रा के चिंतामणि सोसायटी में रहता है | उसके ऊपर हप्ता वसूली , डकैती , डकैती की कोशिस जैसे ३५० से अधिक मामले १९८७ से २०१५ तक दर्ज है | इस के साथ ही १८ मामलों में उसे सजा भी हुआ है जिसमे से एक मामले में सात वर्ष का सजा हुआ है  तिलक नगर पुलिस ने भी धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर जांच कर रही है | साथ इस के साथ का फरार आरोपी कलीम की तलश कर रही है | पुलिस ने बताया की कलीम और शशिकांत की मुलाकात जेल में हुआ है वंहा से बाहर आने के बड दोनों साथ में क्राइम कर रहे थे |


Nagmani Pandey
Reporter, Hamara Mahanagar
9322379123
http://www.hamaramahanagar.in

Working towards the betterment of the Society    

Advertisements

प्रवीण दीक्षित बने नए डीजी

Posted on


मुंबई:महाराष्ट्र सरकार ने मंगलवार को प्रवीण दीक्षत को डी जीपी नियुकित किया। वे संजीव दयाल की जगह लेंगे जो बुधवार को रिटायर हो रहे है। इसके आलावा विजय कांबले को एंटी करपशन ब्यूरो का हेड़ बनाया गया है। सतीश माथुर को महाराष्ट्र स्टेट पुलिस हाउसिंग का डीजी बनाया गया है। वे अरूप पटनायक की जगह लेगे जो आज रिटायर हो रहे है। मीरा बोरवांकर को प्रोमशन देकर डीजी लीगल एंड टेक्निकल बनाया गया है।

गैंगवार में डी के राव गैंग के सदस्य की हत्या !

Posted on Updated on


वर्चस्व समाप्त होने के डर से हत्या किये जाने की संभावना
मामले की जांच  के लिए बनाये आठ टीम
नागमणि पाण्डेय
मुंबई : गुरुवार रात को वडाला स्थित म्हाडा ट्रांजिस्ट कैम्प में डी के राव गैंग से जुड़े एक 31 वर्षीय युवक को गोली मारकर हत्या किये जाने का मामला सामने आया है | इस मामले में वडाला टीटी पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर फरार उस के दोस्त की तलाश कर रही है | इस के साथ ही पुलिस डी के राव गैंग से जुड़े कुछ लोगो को पूछ ताछ कर रही  है |
                   वडाला टीटी पुलिस स्टेशन से मिली जानकारी अनुसार गोली मारकर हत्या किये गए युवक का  नाम अर्जुन जायसवाल उर्फ़ मुन्ना(31) है | इस मामले में वडाला टीटी पुलिस हत्या का मामला दर्ज कर फरार सन्नी उर्फ़ दीपक (31) की तलाश कर रही है | गुरुवार रात 10 बजे के करीब अर्जुन अपने ख़ास दोस्त सन्नी और कुछ लोगो के साथ म्हाडा ट्रांजिस्ट कैम्प में गया था | वंहा अर्जुन बगल में झाड़ियो में शौच करने गया उस के पीछे सन्नी भी गया | जिसके कुछ देर बाद अचानक गोली चलने का आवाज आने पर उस के अन्य दोस्त भी भागकर गए | जब जाकर देखे तो सन्नी गोली चलाकर भाग रहा था | अर्जुन को चार गोली लगी थी | जिसके बाद उसे तुरंत सायन अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती किया गया | वंहा डॉक्टर उसे मृत घोषित कर दिए |इस घटना की जानकारी होते ही संयुक्त पुलिस आयुक्त आर डी शिंदे , पुलिस उपायुक्त धंनजय कुलकर्णी .सहित मुंबई क्राइम ब्रांच के कई अधिकारी घटना स्थल पर पहुचकर जायजा लिया | इस मामले में वडाला टीटी पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर फरार सन्नी की तलाश में जुटी है | पुलिस सूत्रों की माने तो फरार सन्नी  को मृत अर्जुन  जयसवाल की हर एक गतिबिधि की जानकारी थी ऐसे में उसने जयसवाल के घर से निकलने के पहले ही बहार मैदान में एक पेड़ के पीछे बैठा था और जैसे ही अर्जुन सामने से गुज़रा उसी वक़्त आरोपी ने अर्जुन पर एक के बाद एक 4 गोली दाग दी। गोली अर्जुन के छाती और पीठ में लगी थी  पुलिस का दवा है की आरोपी की पहचान हो गयी है और जल्द ही उसको पकड़ लिया जायेगा लकिन इस हत्या की वजह अब तक साफ़ नहीं हो।  ऐसे में ये हत्या को निजी रंजिस का नाम दिया जाए या फिर गैंगवार का नाम दिया जाए। फिलहाल पुलिस हत्या का मामला दर्ज कर क्राइम ब्रांच की आठ टीम आरोपी सनी की तलाश में जुटी है |
    
डी के राव गैंग से जुड़ा था अर्जुन
  मृत अर्जुन जायसवाल मुंबई का गैंगेस्टर डी.के राव के ख़ास दोस्त राजू कमाठी का दोस्त था | राजू ने ही अर्जुन को बढ़ावा दिया था | उसे अपने साथ जोड़कर रखा था | अर्जुन पर हत्या और हत्या की कोशिस जैसे कई गंभीर मामले दर्ज है |   पुलिस सूत्रों की माने तो अर्जुन जैसवाल खुद  डी.के राऊ  का बेहद एक्टिव सदस्य था। और जिस युवक ने अर्जुन पर फायरिंग की वो भी उसका ही साथी बताया जा रहा है। दोनों एक दूसरे को जानते ही नहीं बल्कि  डी.के राऊ के लिए मुंबई में काम भी करते थे।  अर्जुन पहले पुलिस के हिट लिस्ट में था उसके गुनाहो की लिस्ट इतनी बढ़ गयी थी की पुलिस उसे मुंबई से तडीपार करने की प्रक्रिया शरू कर दी थी। लेकिन उसके पहले ही उसके दोस्त ने उसको मार कर मौत के घाट उतार दिया

गैंगवार में हत्या किये जाने की संभावना

सूत्रों की माने तो मृत अर्जुन डी के राव गैंग के लिए काम कर रहा था उसे डी के राव गैंग मे राजू कमाठी ने जोड़ा था इस के साथ ही अर्जुन डी के राव के साथी  राजू का ख़ास  दोस्त था | राजू कमाठी ने उस के ऊपर विश्वास कर बढाया था | राजू के सहयोग से ही अर्जुन ने अपराधिक घटनाओ को अंजाम देना सुरु किया था | हालत ऐसा हो गया की वडाला, सायन .एंटोप हिल आदि आस पास के परिसर में जन्हा राजू का दबदबा था वंहा अर्जुन का दब दबा बढ़ रहा था | सूत्र बताते है की अर्जुन का यहा बढ़ता दबा दबा देख उसे समाप्त करने का प्लान बनाया गया | उस प्लान के अनुसार ही अर्जुन के ही ख़ास करीबी दोस्त सन्नी को पैसो का लालच देकर उस की हत्या करायाया गया | फिलहाल पुलिस फरार आरोपी सन्नी की तलाश कर रही है उस की गिरफ़्तारी होने के बाद ही हत्या के कारणों का पत्ता चल पायेगा | वंही संदेह के आधार पर पुलिस डी के राव गिरोह के कुछ लोगो से पूछ ताछ कर रही है | इस के साथ ही डी के राव के ख़ास राजू कमाठी से भी पूछ ताछ किये जाने की जानकारी सूत्रों से मिली है |

Nagmani Pandey
Reporter, Hamara Mahanagar
9322379123
http://www.hamaramahanagar.in

Working towards the betterment of the Society