Month: August 2015

टल्ली बाबा राधे माँ के बेटे तो छोटी माँ है बेटी

Posted on


धर्म रक्षा मंच ने रजिस्टार ऑफिस से निकाले दस्तावेज में हुआ खुलासा
नागमणि पाण्डेय
मुंबई :पिछले कई महीनो से विवादों में घिरी  राधे माँ का एक सनसनीखेज खुलासा धर्मरक्षा मंच  द्वारा निकाले गए दस्तावेजो में हुआ है | राधे माँ ने  कभी यह नहीं कबूला की टल्ली बाबा उसका बेटा है जबकि छोटी माँ उसकी बेटी हैं । इन सब का खुलासा  घर के नाम से अंडरटेकिंग बनाए गए दस्तावेजों से हुआ है।  जिसमे टल्ली बाबा बेटा तो छोटी माँ को बेटी बताया गया है |  धर्मरक्षा महामंच के अध्यक्ष पंडित रमेश जोशी ने राधे माँ की प्रॉपर्टी से जुड़े कुछ सरकारी दस्तावेज निकाले है। जिसमे ये सच्चाई सामने आई है।
           धर्मरक्षा महामंच के अध्यक्ष पंडित रमेश जोशी ने दिए  दस्तावेज रजिस्ट्रार ऑफिस के है। जिसमे मुम्बई के बोरीवली में स्तिथ बंगला जिसकी कीमत करीब 35 करोड़ है वो राधे माँ के बड़े बेटे हरजिंदर के नाम पर है। और बकायदा इस बंगले की अंडरटेकिंग जो रजिस्ट्रार ऑफिस और गुलमोहर सोसाइटी जहाँ ये बंगला है के सेक्रेटरी को लिखकर दी गयी है में हरजिंदर ने अपनी परिवार का नाम लिखा है जिसमे गौरव कुमार उर्फ़ टल्ली बाबा को सगा भाई और ऋतू सरीन उर्फ़ छोटी माँ को बहन बताया है। माँ का नाम राधे माँ है। यानी यहाँ पर बंगले के मालिक और राधे माँ के बेटे हरजिंदर ने दोनों को अपना सगा भाई और बहन बताये जाने की जानकारी धर्म रक्षा मंच के अध्यक्ष पंडित रमेश जोशी ने हमारा महानगर को दिया है | जोशी ने बताया की  दूसरी तरफ अगर इस प्रॉपर्टी के दस्तावेज देखा जाए तो उस में बताये है  की ये प्रॉपर्टी इसी साल 9 जनवरी 2015 में हरजिंदर ने जुहू के रहने वाले अनूप करनानी ने खरीदी थी जिसकी पेमेंट 3 बार में की गयी थी। इसकी कीमत करीब 35 करोड़ आंकी गयी है। जबकि दस्तावेज में सिर्फ डेढ़ करोड़ की पेमेंट किये गए है बाकी पैसा ब्लैक में दिया गया है। इसके बाद उसे तोड़कर बाकायदा 45 करोड़ और खर्च किये गए अब जाकर इस प्रॉपर्टी की कीमत करीब 75 करोड़ बताई जा रही है। यानि यहाँ भी काला धन से संपत्ति बनायी गयी है। जबकि राधे माँ हमेशा पुलिस के भी सामने अपनी प्रॉपर्टी होने से इनकार करती रही है।वहीँ पिछले दिनों पंडित रमेश जोशी ने राधे माँ की प्रॉपर्टी की जाँच के लिए इनकम टैक्स विभाग को पत्र लिखा है जिसका जवाब आया है की विभाग इसकी जाँच में जुट गया है वहीँ अगर बेटे-बेटी वाली बात सही नहीं है तो भी राधे माँ और उसके बेटे हरजिंदर पर फर्जीवाड़े का मामला भी दर्ज हो सकता है। पंडित रमेश जोशी ने मांग किया है की इस की पूरी जांच होनी चाहिए जिससे की इस की सचाई सामने आ सके |


Nagmani Pandey
Reporter, Hamara Mahanagar
9322379123
http://www.hamaramahanagar.in

Working towards the betterment of the Society    

Advertisements

शीना बोरा मर्डर केस में इंद्राणी का नार्को टेस्ट करा सकती है मुंबई पुलिस

Posted on


मुंबई:शीना हत्याकांड में फंसी इंद्राणी को लेकर आज एक नया राज सामने आया है। पुलिस अब इंद्राणी के पहले पति सिद्धार्थ दास की तलाश में जुटी है, लेकिन सिद्धार्थ दास का कहीं कोई सुराग नहीं मिल रहा।  सिद्धार्थ के रिश्तेदारों को भी उनके बारे में पता नही है। यहां तक कि उनके भाई का भी कहना है कि आखिरी बार कई साल पहले उनके और सिद्धार्थ के बीच में संपर्क हुआ था। अब सिद्धार्थ की गुमशुदगी को लेकर भी इंद्राणी पर शिकंजा कस सकता है।  शीना बोरा मर्डर केस में इंद्राणी का नार्को टेस्ट करा सकती है मुंबई पुलिस पुलिस अब इंद्राणी के पहले पति सिद्धार्थ दास की तलाश में जुटी है, लेकिन सिद्धार्थ दास का कहीं कोई सुराग नहीं मिल रहा।   सिद्धार्थ दास के बारे में इंद्राणी से भी कोई ठोस जानकारी नहीं मिली है। पुलिस के मुताबिक इंद्राणी जांच में पूरी तरह सहयोग नहीं कर रही हैं और अब जरूरत पड़ी तो पुलिस उसका नारको टेस्ट करा सकती है।  बता दें कि सिद्धार्थ दास को ही शीना और मिखाइल का पिता बताया जा रहा है। सिद्धार्थ दास के बाद इंद्राणी ने संजीव खन्ना से शादी की थी और फिर उसे तलाक देकर पीटर मुखर्जी से शादी कर ली। शीना हत्याकांड को लेकर इतने विवाद खड़े हो जाने के बावजूद अभी तक सिद्धार्थ दास सामने नहीं आए हैं।  अपनी ही बेटी शीना की हत्या और बेटे मिखाइल के कत्ल की साजिश रचने के आरोप के बाद इंद्राणी के ऊपर एक और आरोप को खतरा मंडराने लगा है। सूत्रों के मुताबिक पिछले कई साल से इंद्राणी के पहले पति सिद्धार्थ दास गायब हैं।

इंद्राणी ने मिखाइल की हत्‍या की दी थी सुपारी, कॉन्‍ट्रेक्‍ट किलर गिरफ्तार

Posted on


मुंबई। शीना मर्डर केस में एक और खुलासा हुआ है और इसके अनुसार इंद्राणी ने शीना के बाद मिखाइल बोरा को भी मारना चाहा। इसके लिए उसने कुछ कॉन्‍ट्रेक्‍ट किलर्स को सुपारी भी दी थी जिनमें मुंबई के ही कुछ शातीर कातिल थे।

पुलिस ने इस हत्‍यारे को गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि, इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। कहा जा रहा है कि इंद्राणी की मिखाइल को मारने की यह चौथी कोशिश थी। रिपोर्ट्स के अनुसार, एक वरिष्‍ठ पुलिस अधिकारी ने बताया है कि इंद्राणी ने अगस्‍त 2014 में एक कॉन्‍ट्रेक्‍ट किलर को मिखाइल की हत्‍या के लिए ढाई लाख रुपये दिए थे।

अधिकारी के अनुसार इंद्राणी का यह प्‍लान नाकाम हो गया था और हमने कॉन्‍ट्रेक्‍ट किलर को हिरासत में ले लिया है। इसके बाद पुलिस को मिखाइल के उस दावे में दम नजर आ रहा है जिसमें उसने आरोप लगाया है कि इंद्राणी ने शीना की हत्‍या के बाद उसे भी मारने की कोशिश की थी।

पुलिस को मिली सूटकेस

मुंबई पुलिस ने इंद्राणी मुखर्जी के घर से एक सूटकेस बरामद किया है। शनिवार को बरामद यह सूटकेस वैसा ही है, जैसा शीना के शव के टुकड़े रखने के लिए इस्तेमाल किया गया था।
सूत्रों के मुताबिक यह सूटकेस मिखाइल की हत्या कर उसके शव के टुकड़े रखने के लिए था। इससे पहले मिखाइल भी दावा कर चुका है कि इंद्राणी शीना से पहले उसे ही खत्म करना चाहती थी।
मिखाइल के अनुसार इंद्राणी ने उसे भी बुलाया था और संजीव खन्ना की मौजूदगी में उसे ड्रिंक में नशीला पदार्थ मिलाकर पिलाया था। लेकिन वह किसी तरह भाग निकलने में कामयाब रहा।

पश्चिम रेलवे के ड्राइवर को महीना  ढाई लाख वेतन ,आरटीआई से हुआ खुलासा

Posted on Updated on


तिन वर्ष बाद रेलवे ने दिए जानकारी में हुआ खुलासा
विवादित जीएम महेश कुमार का रह चूका है ड्राइवर
नागमणि पाण्डेय
मुबंई : अगर आपको कहा जाए की रेलवे के एक ड्राइवर का वेतन लाखो रुपये है तो शायद आप भी कुछ समय सोचने पर मजबूर हो जायेंगे और रेलवे में ड्राइवर की नौकरी के लिए आवेदन करना सुरु कर देंगे | लेकिन यह सही है इस का खुलासा आरटीआई के अंतर्गत हुआ है | जिसमे पश्चिम रेलवे के जीएम  रह चुके  ड्राइवर को महीने का वेतन 2 लाख 46 हजार 202 रुपये वेतन होने का खुलासा हुआ है | इसके लिए आरटीआई कार्यकर्ता अनिश खान को तिन वर्ष तक इंतजार करना पड़ा है |
रेलवे के आरटीआई कार्यकर्ता अनीस खान ने साल 2012 में तत्कालीन पश्चिम  रेलवे जीएम महेश कुमार के ड्राइवर चपरासी और उनके बंगले पर काम करने वालों के वेतन  को लेकर आरटीआई में जानकारी माँगा था | लेकिन पश्चिम रेलवे के तरफ से यह जानकारी देने में पहले तो नजर अंदाज किया गया लेकिन जब आरटीआई कार्यकर्ता अनीस खान ने इस के लिए अपील में गए तब जाकर तिन वर्ष लंबे समय बाद जानकारी मिला | तिन वर्ष बाद जो जानकारी मिला वह सुनकर शायद आपभी हैरान रह जायेंगे | पश्चिम रेलवे के तरफ से जो वेतन का स्लिप दिया गया है  उसमे ड्राइवर ए.एस.गुसैन की सितंबर 2014 में जो सैलरी रेलवे ने दी वह हजारों में नहीं बल्कि लाखों में है । वहीं साल 2014  मे नवंबर के महीने में 101227 रूपए तक इनकी सैलरी पहुंच गई । सैलरी स्लिप में इतना ज्यादा पैसा देखने के बाद पता चला कि यह पैसा ओवर टाइम के लिए दिया गया है जबकि इसकी बेसिक सैलरी 20000 रूपए के आसपास है । आपको बतादे की यह महेश कुमार वही हैं जो साल 2012 में जीएम वेस्ट्रेन रेलवे थे और बाद में रेल्वे बोर्ड के मेंबर बने और रेल मंत्रालय ने मेंबर महेश कुमार को निलंबित कर दिया था । सीबीआई ने महेश कुमार को रेल मंत्री के भांजे विजय सिंगला को रिश्वत देने के आरोप में गिरफ़्तार किया था । इससे पहले विजय सिंगला को भी सीबीआई ने गिरफ़्तार कर लिया था । सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक मास्टर क्राफ्टमैन (ड्राइवर) ए.एस.गुसैन तत्कालीन जीएम वेस्ट्रेन रेलवे महेश कुमार के पास बतौर ड्राइवर काम किया करता था। ऐसे मे सवाल यह उठता है कि आखिर वेस्ट्रेन रेल्वे मे काम करने वाला एक ड्राइवर लाखों रूपए बतौर सैलरी कैसे पा सकता है जिसकी बेसिक सैलरी सिर्फ 20000 रूपए ही हो ।रेलवे के आरटीआई कार्यकर्ता अनीस खान ने हमारा महानगर से बात करते हुए बताया की प्रति दिन लाखो रुपये की घाटा सहन करने का दावा रेलवे के तरफ से किया जाता रहा है ऐसे में इस तरह वरिष्ट अधिकारियो के वेतन के नाम पर इस तरह पैसा लुटाये जाने से वरिष्ट  अधिकारियो के कार्यशैली संदेह के घेरे में है इस की जांच किया जाना चाहिए |वंही रेलवे प्रवासी संघ के प्रवीण त्रिपाठी ने बताया की रेलवे के जीएम रह चुके महेश कुमार पर पहले भी भरष्टाचार के आरोप लग चुके है इस लिए इस की जांच कर रेलवे द्वारा पैसा वसूल किया जाना चाहिए | मुंबई उच्च न्यायलय के वकील और युवा सेना के पश्चिम मध्य मुंबई के अध्यक्ष धर्मेंद्र मिश्रा ने बताया की नियमानुसार यह पद दुरुपयोग है इस में दोषी पाए जाने पर रेलवे पैसा वसूल कर सकती है साथ ही उनपर कार्यवाई भी किया जा सकता है |धर्मेंद्र मिश्रा ने बताया की इस बारे में रेलवे के तरफ से कोई जांच नही किया जाता तो इस को लेकर न्यायलय में याचिका दाखिल किया जायेगा |  इस मामले में रेलवे के वरिष्ट अधिकारियो से प्रतिक्रिया जानने की कोशिस किया गया लेकिन किसी भी तरह की प्रतिक्रिया देने से इंकार कर दिए |


Nagmani Pandey
Reporter, Hamara Mahanagar
http://www.hamaramahanagar.